Wednesday, 29 June, 2011

चार भाषाओं में क्रांति गीत /समाजवादी जनपरिषद , जलपाईगुड़ी - राष्ट्रीय परिषद

इन गीतों की झलकियां मैं अपने नन्हे से कैमेरा में कैद कर सका । अवसर था समाजवादी जनपरिषद की उत्तर बंग के जलपाईगुड़ी में हुई राष्ट्रीय परिषद । उम्मीद है पसन्द करेंगे और टिप्पणी भी करेंगे ।
सम्बलपुरी समूह गीत


बांग्ला लोक शैली ’बाऊल’ पर आधारित राजनैतिक गीत / राधाकान्त बहिदार



एडवोकेट जेमन का गाया मलयालम गीत



महात्मा फुले रचित अभंग - स्त्री पुरुष सर्व / स्वर संजीव साने



नोट : यू ट्यूब पर लगातार दूसरी बार सुनने पर बिना बाधा सुना जा सकता है। पहली बार में ’बफ़रिंग’ चल रही होती है इसलिए अटक - अटक कर बजता है ।

No comments:

Post a Comment

पसन्द - नापसन्द का इज़हार करें , बल मिलेगा ।